Chanakya Niti: चरित्रहीन स्त्री के पहचान करने का ये हैं आसान टिप्स, खुद आजमाएंगे तो हो जाएगा भरोसा

Chanakya Niti: आचार्य चाणक्य जी के नीति के अनुसार औरत एक ऐसी जाति होती है जिन्हें कोई भी व्यक्ति नहीं समझ सकता है। जैसा कि आप सभी जानते ही हैं।भारत में औरत को देवी के रूप में माना जाता है। लेकिन देखा जा रहा है, कि समय के साथ देवी दुर्व्यवहार के रूप में विभक्ति होती जा रही है। भगवान ने उनके अंदर कोमलता समयता और साथ ही ममता का गुण भी ने अधिक प्रदान किया है। 

आचार्य चाणक जीं ने अपनी नीति में चरित्रहीन स्त्री से जुड़े समस्याओं को देखते हुए ऐसी बातें बताई है। अगर चाणक जी के नीति के अनुसार कोई व्यक्ति उनके रास्ते पर चले तो उनके जीवन में कभी भी दुख धोखा आदि का भाव देखने को नहीं मिलेगा।चाणक जी ने अपनी नीति में समस्याओं को लेकर एक ऐसी नीति का निवारण किए है।

   

जो कि आज भी देखने को मिलता है इसे देखते हुए साथी आचार्य चाणक जी ने चरित्रहीन महिलाओं के बारे में भी नीति का उल्लेख क्या है अगर आप इसे अच्छे से समझ लेते हैं।तो आप कभी भी चरित्रहीन महिलाओं के प्यार में नहीं गिरेंगे आज हम आपसे तो बताते हैं।कि आचार्य चाणक जी ने महिलाओं के बारे में क्या-क्या बातें बताई है।

ऐसा गुण प्रत्येक महिलाओं के अंदर देखने को मिलती है। लेकिन एक कहावत है ना किसी व्यक्ति के हाथों का पांचो उंगली एक समान नहीं होता है सेम उसी तरह महिलाओं की ममता आवश्यक नहीं है।कि हमारा समाज प्रत्येक स्त्रियों को अपने घर का इज्जत समझता है।साथी महिलाओं को यह जिम्मेदारी भी सौंप दिया जाता है, कि परिवार के ऊपर इज्जत पर लाल चल ना लगे। 

जैसा कि आप सब जानते ही हैं।महिलाएं अपने परिवार का इज्जत बचाने का भी काम निभाती है और साथी अपने आचरण और सामाजिक नैतिक जीवन को शुद्ध रखती है। आचार्य चाणक्य जी ने अपने नीति में उल्लेख करते हुए बताया कि औरत जात एक पूजनीय मानी जाती है आचार्य चाणक जी कहते हैं। कि स्त्री देवी का रूप होता है पर कुछ स्त्री ऐसी भी होती है जो कि कुछ रीत और चरित्रहीन के वजह से अपने से जुड़े व्यक्तियों के जीवन पर बहुत ही बुरा प्रभाव फैला देती है।ऐसी महिलाओं के अंदर केवल एक पुरुष से संबंध बनाने और प्यार करना नहीं आता है।बल्कि उन्हें प्रत्येक  के पास जाने की इच्छा बनी रहती है। 

WhatsApp चैनल ज्वाइन करें