Divorce: शादी के कितने दिनों बाद पति-पत्नी ले सकते हैं तलाक, 95 फीसदी लोगों को नहीं होगा मालूम

Divorce: विवाह का बंधन मानव समाज के सबसे पवित्र रिश्तों में से एक है। लेकिन कई बार ऐसा होता है की शादी के बाद पति-पत्नी का आपसी विचार एक जैसा नहीं होता। परिणाम स्वरूप वैचारिक मतभेद बढ़ जाते हैं। संभव है कि पति-पत्नी के बिगड़ते रिश्तों के पीछे कुछ पारिवारिक कारण भी उत्तरदायी हों जिसके कारण एक दूसरे के साथ रहना संभव न हो और अलग होने का फैसला ले लिया हो। ऐसे में वह कानूनी रूप से आपसी सहमति के साथ अलग हो सकते हैं।

ऐसे में सवाल यह उठता है कि यदि किन्हीं कारणों से पति पत्नी साथ नहीं रह सकते तो वो विवाह के कितने दिनों बाद कानूनी रुप से संबंध विच्छेद कर सकते हैं। आज के आलेख में हम आपको तलाक कानून संबंधी कुछ महत्वपूर्ण जानकारी से अवगत कराएंगे। हमारे आलेख को पूरा पढ़कर आप सामाजिक सरोकार वाले इस विषय की जानकारी अन्य लोगों तक संप्रेषित कर उनका मार्गदर्शन कर सकते हैं।

   

विवाह के कितने दिनों बाद कर सकते हैं तलाक के लिए आवेदन?

भारतीय कानून में तलाक के लिए विधिवत् प्रावधान बनाए गए हैं। ऐसी स्थिति में जब पति पत्नी के बीच वैचारिक मतभेद व मनमुटाव बढ़ जाता है,तब दोनों का एकसाथ रहना संभव नहीं हो पाता। अतः सवाल यह उठता है कि शादी के कितने समय बाद पति-पत्नी तलाक के लिए आवेदन कर सकते हैं? लोगों की ऐसी मान्यता है कि यदि कोई भी पति-पत्नी शादी के बाद तलाक का आवेदन करना चाहते हैं तो उन्हें कम से कम शादी के बाद 1 वर्ष तक इंतजार करना होगा।

किंतु अब ऐसा नहीं है भारतीय कानून द्वारा बनाए गए प्रावधानों के अनुसार पति-पत्नी शादी के एक हफ्ते बाद भी तलाक के लिए आवेदन कर सकते हैं। हालांकि कोर्ट द्वारा दोनों पक्षों की दलील सुनने के बाद उन्हें 6 महीने का समय दिया जाता है जिससे यदि बाद में आपसी मतभेद खत्म होने पर दोनों सुलह करना चाहें तो अपना फैसला बदल सकते हैं।

इस प्रक्रिया से करें तलाक के लिए आवेदन

भारतीय कानून में तलाक और न्यायिक अलगाव दोनों हिंदू विवाह अधिनियम 1955 के अंतर्गत आते हैं। लेकिन दोनों के ही विषय में अलग-अलग धाराओं में प्रावधान किया गया है। जहां तलाक के प्रावधान को धारा 13 में स्पष्ट किया गया है, वहीं धारा 10 में न्यायिक अलगाव संबंधी नियम बताए गए हैं। यदि कोई भी शादीशुदा जोड़ा तलाक के लिए आवेदन करना चाहता है तो वह उपरोक्त धाराओं के तहत कोर्ट में आवेदन कर सकता है।

WhatsApp चैनल ज्वाइन करें