सरकार ने देशवासियों को दिया तोहफा….! अब 12 लाख रुपये इनकम होने के बाद भी नहीं देने होंगे टैक्स, जानिए कैसे?

सरकारी हो या प्राइवेट एक बड़ा सालाना पैकेज लेने वाला व्यक्ति को टैक्स देने की टेंशन होना भारत में लाजमी बात है। क्योंकि सरकार टैक्स के रूप में इतना बड़ा अमाउंट ले लेती है। जिससे बचने के लिए व्यक्ति न जाने कितने जतन करता है। परंतु फिर भी इसे देने से बच नहीं पाता है। और हर एक नौकरी पेशा व्यक्ति को टैक्स रिटर्न करना ही पड़ता है। हमारे देश के बड़े-बड़े उद्योगपति सिर्फ टैक्स देने की वजह से ही इंडिया को छोड़कर दूसरे कंट्री में जाकर शिफ्ट हो गए हैं।

गरीब हो या अमीर सरकार सबको एक ही नजरिये से देखती है और सबसे एक ही अमाउंट में टैक्स का भुगतान करवाती है। परंतु जो व्यक्ति एक सालाना अच्छा पैकेज ले रहा है और एक उद्योगपति और एक गरीब इन सबके आय में जमीं फर्क होता है। हर एक व्यक्ति से इनकम के हिसाब से अलग-अलग अमाउंट में टैक्स लेना चाहिए। क्योंकि उद्योगपति उद्योग से एक बड़ा हिस्सा सरकारी टैक्स देने में लगा जाता है। जिसका उसे खामियाजा भुगतना पड़ता है।

   

सालाना बड़ा पैकेज वाला नौकरी पैशा व्यक्ति भी एक बड़े अमाउंट में सरकार को टैक्स देता है । पर जो कुछ भी नहीं कर रहा है। वह तो सरकार की सारी फैसिलिटी को उपयोग करने के बाद भी कोई टैक्स नहीं दे रहा है। इसी वजह से हर एक उद्योगपति और नौकरी पैसा टैक्स में बचत के लिए प्रयास करते हैं। आइये हम कुछ टिप्स से इन प्रयास को बेहतर बनाएं।

लोन लेकर भी टैक्स से बचा जा सकता है

इंडिया में हर एक व्यक्ति तो नौकरी नहीं करता परंतु जो नौकरी करता है। उसे अपनी खुद की प्रॉपर्टी, जमीन, घर,खरीदना ही पड़ता है । तो प्रॉपर्टी खरीदने के लिए हम लोन लेकर भी टैक्स से बहुत हद तक बच सकते हैं। कैसे देखिए ?? जब हम कुछ प्रॉपर्टी खरीदने के लिए लोन लेते हैं। तो एक बड़े अमाउंट का हमें लोन लेना होता है ।और फिर इस अमाउंट को चुकाने के लिए हमें हर महीने की तनख्वाह से किस्त को कटवाना होता है। जैसे कि किसी व्यक्ति ने 50 लाख का लोन लिया। और हर महीने वह ₹40000 के हिसाब से तनख्वाह में से कटवा रहा है। तो साल भर में तो उसके पास ऐसा कोई बड़ा अमाउंट इकट्ठा नहीं हो पाएगा। जिससे कि उसे टैक्स देना पड़े। और उसके पास एक बड़ी प्रॉपर्टी भी हो जाएगी। इस तरह वह टैक्स से बच सकता है।

कंपनी के बॉस से या बड़े अधिकारी से मदद लेकर

आप जिस कंपनी में काम करते हैं। उसमें आप अपना प्रेजेंटेशन अपना काम अच्छे से करते हैं ।तो आपके बॉस से आपके बड़े अधिकारी से आपकी अच्छा व्यवहार भी हो जाता हैं ।और जब आपका काम सही है । तो आप अपने लिए उनसे कुछ मदद भी ले सकते हैं कंपनी के HR से बात करके आप अपनी पेमेंट स्लिप पर कम का अमाउंट भी करवा सकते हैं। जिससे कि आपको कहीं पर भी शो करने की जरूरत ही नहीं पड़ेगी । इसमें भी आप एक से ₹200000 की इनकम को इधर-उधर करवा सकते हैं। जिससे आपका भी टैक्स बच जाएगा।

इंश्योरेंस करवा कर

यदि हम एक बड़े अमाउंट में सैलरी ले रहे हैं। तो हमें साल के शुरू में ही हर छोटी बड़ी प्लानिंग बना लेनी चाहिए। उसमें से एक प्लानिंग यह भी है। कि हम अपना इंश्योरेंस अपनी नौकरी करने वाली कंपनी से ही करवा ले। और उसको हम अपने पर्सनल अकाउंट से कटवा कर भी कुछ परसेंट की छूट प्राप्त कर सकते हैं।

हाउस रेंट को दिखाकर भी टैक्स से कुछ परसेंट बस सकते हैं

आप जहां भी रहते हैं सिटी छोटी हो या बड़ी आपको हर जगह हाउस रेंट का अलाउंस भी मिलता है। जो कि हर महीने की तनख्वाह के साथ में आता है ।और यह रेंट प्रति महीने की सैलरी में नॉर्मल सिटी के हिसाब से और मेट्रो सिटी के हिसाब से भी मिलता है। इसका भी आप सालाना का क्लैम करके टैक्स रिटर्न में ले सकते हैं। इस तरह भी आप टैक्स में कुछ कमी करवा सकते हैं।

बच्चों की ट्यूशन और बुजुर्ग मां-बाप का हेल्थ इंश्योरेंस

यदि आपके मां-बाप आपके साथ में है। और वह 55 से 60 साल के हैं ।तो आप उनके प्रति महीने का इलाज करवा कर और हेल्थ इंश्योरेंस करके भी टैक्स मे शो करवा सकते हैं ।और आपके बच्चे पढ़ाई कर रहे हैं। तो उनकी ट्यूशन फीस के लिए भी आप टैक्स में क्लेम कर सकते हैं ।यह दोनों काम करके आप टैक्स में एक बड़ा अमाउंट बचा सकते हैं। साथ ही ब्रॉडबैंड लेकर ,एंटरटेनमेंट बिल, पेट्रोल बिल ,को दिखाकर भी आप टैक्स में छूट प्राप्त कर सकते हैं।

WhatsApp चैनल ज्वाइन करें