World Arthritis Day 2023: क्या है गठिया के लक्षण और बचाव के उपाय, जानें इस बीमारी से जुड़े मिथकों की सच्चाई

World Arthritis Day 2023: जैसा कि आप सभी को पता ही है।आज के इस भाग दौड़ भरी दुनिया में कम उम्र में ही जोड़ों का दर्द का शिकायत बहुत से लोगों को होने लगी है।यह आमतौर पर एक आम बात हो गया है। जिसे देखा जाए तो यह एक ऐसी समस्या मानी जाती है।जिसे ज्यादातर बुढ़ापे के वक़्त में देखने को मिलता है। ऐसी स्थिति में हमें आयुर्वैदिक ज्ञान और हेल्थी लाइफस्टाइल के माध्यम से जोड़ो के दर्द से मुक्ति पाने के लिए इन तरीकों पर सोचने  के लिए हमें उत्कर्षित करती है। 

इसे बहुत आसानी से समझा जा सकता है कि अगर 30 की उम्र के बाद आपके जोरो में दर्द आना शुरू हो गया है।तो स्थाई संकेत हमें मनाना चाहिए कि हमारे लाइफस्टाइल में विभिन्न फैक्टर के वजह से  ठीक नही है। अगर आप इससे छुटकारा  पाना चाहते हैं तो आपको आयुर्वेदिक तत्व को लेकर  अपनी जीवन शैली को कुछ हद तक बेहतर बना सकते हैं। और आप अपने स्वास्थ्य को पहले से अच्छा बना लेंगे तो चलिए आज हम आप सभी को बताते हैं कि यह किन  कारणों से आपके जोड़ों में दर्द आता है। 

   

आज के ज्यादातर कार्य  में अक्सर लोगों को लंबे समय तक बैठना पड़ जाता है।जिसे जोरों में सहायता करने वाली मांसपेशियों को कमजोर बना देती है।और साथ ही अकरण का वजह भी बन जाता है। 

इसका दूसरा वजह प्रोसेस्ड फूड और चीनी का अधिक खाना साथ ही पोषक तत्वों का हद से ज्यादा उसे करना यह भी एक सुजन का वजह बन जाता है।जो की जोरों के स्वास्थ्य पर अत्यधिक प्रभाव डालता है। 

जोड़ों के दर्द से राहत पाने के टिप्स

अक्सर हम देखते हैं कि कई व्यक्ति ऐसे होते हैं जो अत्यधिक कार्य करते हैं। जबकि कुछ व्यक्ति ऐसे होते हैं जिनके पास पर्याप्त काम होता है। जिससे उनकी गतिविधियों में शामिल नहीं होता है। अपनी बॉडी को लचीला रखकर उनका स्वास्थ्य के रूप में बनाए रखने के लिए काफी जरूरी होता है। 

इसके  कारण में  से एक कारण पर्यावरण प्रदूषण और रसायन के संपर्क में आने से ऐसे जोड़ों की दर्दों की समस्या हो जाता है। 

इसकी सहायता के लिए योग और मेडिसिन का उपयोग और अभ्यास तनाव के प्रबंध में काफी मदद करता है।और साथ ही आपके शरीर के लचीलेपन को काफी हद तक बढ़ा देता है।जैसे कि कोमल खिंचाव और मोर विशेष रूप से आपको काफी हद तक सहायता कर सकती है। 

WhatsApp चैनल ज्वाइन करें